Aryan Raj
Art / Fiction
Typography

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

पटना के 14 वर्षीय छात्र आर्यन राज ने बनाये दो शानदार ऐप, गूगल ने आर्यन के कंप्यूटर शॉटकर्ट कीज और वाट्सएप क्लीनर लाइट को खरीदा है, क्यूंकि रिसर्च में उनके एप को शानदार पाया गया है और लगातार डाउनलोड का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।

पटना के 14 वर्षीय छात्र आर्यन राज ने बनाये दो शानदार ऐप, गूगल ने आर्यन के कंप्यूटर शॉटकर्ट कीज और वाट्सएप क्लीनर लाइट को खरीदा है, क्यूंकि रिसर्च में उनके एप को शानदार पाया गया है और लगातार डाउनलोड का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है।

कहते हैं प्रतिभा और कामयाबी किसी उम्र की मोहताज नहीं होती। इस मुहावरे का ताजा उदाहरण हैं बिहार की राजधानी पटना के 14 वर्षीय छात्र आर्यन राज। दरअसल, विश्व के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने नौवीं कक्षा के छात्र आर्यन राज के बनाये दो एप कंप्यूटर शॉटकर्ट कीज और वाट्सएप क्लीनर लाइट को खरीदा है, क्यूंकि रिसर्च में उनके एप को शानदार पाया गया है और लगातार डाउनलोड का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। उस समय आर्यन की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा जब गूगल ने आर्यन को मेल कर दोनों एप खरीदे जाने की सूचना दी। इतना ही नहीं गूगल ने आर्यन को इसके लिए पुरस्कार स्वरुप दो लाख रुपये भी दिए।   लेकिन आर्यन ने गूगल को यह आग्रह किया है कि इस राशि को उन बच्चों की शिक्षा पर खर्च किया जाए, जो अभाव की वजह से पढ़ाई नहीं पूरी कर पा रहे हैं।

 गौरतलब है कि गूगल प्लेस्टोर पर मौजूद कंप्यूटर शॉर्टकट किज और वाट्सएप क्लीनर लाइट को इंस्टॉल करने के बाद यूजर इसे बढ़िया रेटिंग दे रहे हैं। कंप्यूटर शॉर्टकट किज इस तरह डेवलप किया गया है कि वह यूजर फ्रेंडली हो। यह यूजर की जरूरत के हिसाब से बनाया गया है। कुछ ऐसे शॉर्टकट कीज हैं जिनके इस्तेमाल से कंप्यूटर पर तेज गति से काम करने में मदद मिलती है। कुछ एजुकेशनल एप्लीकेशन भी हैं जो छात्रों के लिए बेहद उपयोगी हैं।

वहीं वाट्सएप क्लीनर लाइट एप को डाउनलोड कर लेने के बाद वाट्सएप पर आनेवाले वायरस और अन्य बेकार चीजें खुद ब खुद स्कैन हो जाती हैं। इस एप के जरिये आप अपने वाट्सएप के बैकग्राउंड में तस्वीर भी लगा सकते हैं। आर्यन के बनाये गये वाट्सएप क्लिनर लाइट एप की जमकर सराहना हो रही है। यूजर्स ने अपने कमेंट्स भी गूगल को दिये हैं। उनका कहना है कि वाट्सएप क्लिनर एप पहले के सभी एप से बेहतर है और इसके इस्तेमाल से उन्हें ज्यादा परेशानी नहीं हो रही।

आर्यन को उसके दादा स्वर्गीय राजवंशी प्रसाद से नई-नई खोज करने की प्रेरणा मिली। दादाजी उसे पढ़ाते थे जिस कारण उनकी दिलचस्पी साइंस में बढ़ गयी। अब आर्यन आईआईटी करना चाहते हैं। और एक अच्छे इंजीनियर बनकर देश के लिए काम करना चाहते हैं.

Sign up via our free email subscription service to receive notifications when new information is available.