Bhawna Bajaj
Spirituality
Typography

User Rating: 0 / 5

Star InactiveStar InactiveStar InactiveStar InactiveStar Inactive
 

बढ़ती गर्मी के बीच कुरुक्षेत्र शहर में कुछ ऐसा हुआ जिसने यहां की महिलाओं और लड़कियों को राहत भरी ठंडक पहुंचाई। उन्हें यह अहसास कराया कि कोई है जिसे उनकी उन बातों की भी फिक्र है जिसके बारे में वे जानना समझना चाहती हैं, पर कोई है ही नहीं जिससे वे खुलकर बात कर सकें।

बढ़ती गर्मी के बीच कुरुक्षेत्र शहर में कुछ ऐसा हुआ जिसने यहां की महिलाओं और लड़कियों को राहत भरी ठंडक पहुंचाई। उन्हें यह अहसास कराया कि कोई है जिसे उनकी उन बातों की भी फिक्र है जिसके बारे में वे जानना समझना चाहती हैं, पर कोई है ही नहीं जिससे वे खुलकर बात कर सकें।

ऐसे में उनके बीच पहुंचा सोशल अंब्रेला, जिसे हम एक ऐसी छतरी कह सकते हैं जिसके नीचे हर समस्या का समाधान मुस्कराता  हुआ खड़ा है।

सोशल अंब्रेला फाउंडेशन ने एक मई 2018 से कुरुक्षेत्र के खालसा स्कूल में निजी स्वच्छता और माहवारी के साथ साथ बेटियों की सुरक्षा पर वर्कशॉप का ऐसा आयोजन किया जिसकी कल्पना यहां के लोगों ने नहीं की थी। इस दौरान लड़कियों को निजी स्वच्छता के साथ माहवारी से जुड़ी तमाम छोटी बड़ी बातें समझायी गईं। उन्हें बताया गया कि जिन बातों पर बात करने को लेकर वे झिझकती हैं, उनके प्रति जागरुक होना उनके लिए कितना ज़रुरी है।


सोशल अंब्रेला फाउंडेशन का प्रयास है कि वे हरियाणा के हर गांव, शहर और कस्बे तक पहुंच कर महिलाओं एवं बेटियों को जागरुक कर सकें। इस प्रयास को हक़ीकत का जामा पहनाने के लिए कुरुक्षेत्र की जानी मानी समाज सेविका रेनू चावला जी को हरियाणा प्रेसीडेंट बनाया गया है।

एक मई को खालसा स्कूल में जिस मिशन की नींव रखी गई उसका अगला पड़ाव नज़र आया 3 मई को करनाल के समोरा गांव में जहां भारत भूमि फाउंडेशन की सुमिता शर्मा जी और सोशल अंब्रेला फाउंडेशन की हरियाणा प्रेसीडेंट रेनू चावला जी ने ग्रामीण महिलाओं को ‘हमारी ज़रुरतें’ एक कदम स्वच्छता की ओर प्रोजेक्ट के तहत बेटियों की शिक्षा, आत्मनिर्भरता और स्वच्छता जैसे मुद्दों के बारे में जागरुक किया। इसके साथ ही महिलाओं को सेनेटरी पैड और निजी स्वच्छता से जुड़ी चीजें दी गईं ताकि वे इनका इस्तेमाल करें और जान सकें कि उनके लिए ख़ुद का सही तरीके से ख्याल रखना कितना ज़रुरी है।

स्वच्छता के प्रति जागरुकता का कारवां लेकर सोशल अंब्रेला फाउंडेशन 25 मई को पहुंचा कुरुक्षेत्र के गुरुनानक सीनियर सेकेंड्री स्कूल में, जहां एक कैंप लगाकर छात्राओं से खुलकर बात की गई। इस कैंप में पहुंचीं सब इंसपेक्टर  परवीन कौर  ने छात्राओं को आत्मरक्षा के लाभ बताते हुए एक डेमो दिया और बताया कि वे किसी भी मुसीबत से लड़ने में सक्षम हैं, बस उन्हें अपने मनोबल पर भरोसा होना चाहिए।इस कैंप में जानी मानी समाज सेविका शकुंतला शर्मा  सुमिता जी ने भी अपने अनुभवों से बच्चियों को लाभान्वित किया

इस मौके पर सोशल अंब्रेला फाउंडेशन की फाउंडर और दिल्ली हाई कोर्ट की अधिवक्ता भावना बजाज जी ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा कि उनका मिशन साल 2019 तक बीस हजार बेटियों और महिलाओं को जागरुक करने का है, जिसके लिए वे समाज कल्याण, शिक्षा एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों से बात करेंगी। इस मौके पर महिलाओं के लिए कई इनोवेटिव प्रस्ताव भी रखे गए।


पहली बार किसी ने इन महिलाओं और छात्राओं से उनकी निजी स्वच्छता या ज़रुरतों  के बारे में इस तरह बात की, जिससे सभी काफी खुश दिखे। सोशल अंब्रेला फाउंडेशन का यह आयोजन कुछ ख़ास लोगों की वजह से इतना कामयाब हो सका जिसके लिए हम  आभारी हैं।
                           
किसी भी राष्ट्र के विकास के लिए उसके समाज का विकसित होना ज़रुरी है और समाज के विकसित होने के लिए महिलाओं की हर ज़रुरत का सम्मान करना और उन तक उनसे जुड़ी हर छोटी बड़ी बात का पहुंचना, उनका जागरुक होना बेहद ज़रुरी है। इस बात को सोशल अंब्रेला फाउंडेशन बखूबी समझता है। तभी तो सोशल अंब्रेला निकल चुका है एक ऐसे मिशन पर जहां घर घर होगी स्वच्छता और सेहत की बात। खिलखिलाएगी हर बिटिया और खिलेगी हर मुस्कान :)


इस मिशन में साथ देने और हाथ बढ़ाने के लिए आप सोशल अम्ब्रेला फाउंडेशन की वेब-साइट या पेज पर संपर्क कर सकते है  

Website : www.socialUmbrella.in
Mail: www.socialumbrella.in@gmail.कॉम
Facebook : https://www.facebook.com/SocialUmbrellaa/
Twitter  : https://twitter.com/SocialUmbrellaa